Rabipur Vaccine

रैबिपुर वैक्सीन को ऐसे लोगों को दिया जाता है जिनके रेबीज के संपर्क में आने का जोखिम अधिक होता है जैसे वेटरनेरियन. यह किसी रेबीज़ वाले जानवर के काटने के बाद लोगों को दिया जाता है.

रैबिपुर वैक्सीन डॉक्टर या नर्स द्वारा इंजेक्शन के रूप में दिया जाता है. . एक्सपोजर के बाद जितनी जल्दी इलाज शुरू हो जाए, उतना अच्छा है.. एक्सपोजर के बाद एंटी-रेबीज़ वैक्सीनेशन में हमेशा इम्यूनोग्लोब्यूलिन और टीका दोनों को दिया जाना चाहिए, उन लोगों को छोड़कर जिनका पहले पूर्ण टीकाकरण हुआ है. इस घातक रोग को रोकने के लिए टीके के कोर्स को पूरा करना बहुत आवश्यक है.

सामान्य साइड इफेक्ट में दर्द, जोड़ों का दर्द और इंजेक्शन की जगह पर सूजन होना शामिल हैं. वे आमतौर पर बहुत लंबे समय तक नहीं रहते. बैठना या लेटना कभी-कभी मददगार हो सकता है. अगर कोई साइड इफेक्ट बना रहता है या परेशान करता है तो डॉक्टर से परामर्श करें.

अगर आपको कभी भी वैक्सीन से एलर्जिक रिएक्शन हुई है तो इंजेक्शन लेने से पहले आपको अपने डॉक्टर को इस बारे में बताना चाहिए. कुछ अन्य दवाएं रेबीज के टीके के साथ प्रतिक्रिया कर सकती हैं, इसलिए अपने डॉक्टर को आपके द्वारा ली जा रही सभी दवाओं के बारे में सूचना दें.

Updated: 28/06/2021 — 09:33

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *